Computer का इतिहास- नई जानकारी

इस Post में Computer और Computer Generation बनने की History बात करेंगे. शुरुआती Computer एक बड़े कमरे के आकार के होते थे. वर्तमान में Computer आपके हाथ मे है. जिसे Smartphone कहते है. तो आइए दोस्तो History Of Computer Hindi में जानते है.

Computer History in Hindi-

Computer history लगभग 3000 वर्ष पुरानी है. Computer शब्द की उत्पत्ति English के “Compute” शब्द से हुई है. 17 वी शताब्दी में France के Mathematician- Baize Pascal ने एक यांत्रिक अंकीय गणना यंत्र  Mechanical Digital Calculator सन् 1645 में विकसित किया था. इस मशीन को Adding Machine कहते थे. क्योकि यह केवल जोड़ या घटाव कर सकती थी.

दुनिया का प्रथम Electronic Computer ENIAC (Electronic Numerical Integrator and Computer) था. इस प्रारंभिक Computer को वर्ष 1946 में बनाया गया था. प्राचीन समय मे गणना करने के लिए Abacus नामक एक Device का उपयोग किया जाता था. यह एक Mechanical Device था.

Abacus नामक Device का आविष्कार चीन में हुआ था. Abacus Machine अंको को जोड़ने , घटाने , गुणा करने तथा भाग देने के काम आती थी. अभी तक हमने Abacus Machine के बारे में जाना है. तो अब हम जानते हैं कि Computer ki history kya hai?

कोई भी ऐसी मशीन जिसमें हम Input देते हैं और Output लेते हैं. उसे हम Computer कह सकते हैं. पहले Computer का आईडिया चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) ने दिया था. इसलिए चार्ल्स बैबेज को Computer का जनक भी कहा जाता है. और इनके साथ एक Lady थी. जिनका नाम था- Ada lovelace जिन्होंने Charles Babbage के साथ Computer बनाने में उनकी मदद की थी.

चार्ल्स बैबेज ने एक Analytical engine बनाया था. जो Mathematical calculations करने में सक्षम था. इसे Differential engine भी कहा गया. चार्ल्स बैबेज एक British mathematics professor थे.

Ada lovelace ने ही Computer का सर्वप्रथम एल्गोरिथम (Algorithm) दिया था. और हम First programmer Ada lovelace को कह सकते है. Computer में जिस Machine language का इस्तेमाल किया जाता है. उसका आधार 0,1 है. प्रथम Computer में इसी Coding का उपयोग किया गया था.

प्रथम Computer के बनने से लेकर आज के Modern computer के आने तक Computer ने काफी विकास किया है. आधुनिक Computer की शुरुआत Pascaline से मानी जाती है. इसे Blaise Pascal नामक Mathematician ने बनाया था.

क्या आप जानना चाहते हैं-

Computer Generation in hindi-

computer history in hindi

first generation (1943-1958)-

first generation वाले Computer की पीढ़ी थी. 1951 तक Univack के अपने उत्पाद काफी बिके थे. first generation 1950 तक खतम हो गयी थी. इस first generation की एक खासियत थी. की यह Vacuum tube से बने हुए Computer पर चलती थी. Vacuum tube 5cm से 10cm तक लंबी होती थी. और काफी मशीन को बनाने में काम आते थे.

second generation (1959-1964)-

1950 के मध्य में Bell Lab ने ट्रंजिस्टर (Transistor) का निर्माण किया था. Transistor भी उसी तरह के सारे काम करते थे. जो की Vacuum tube करती थी. पहला Transistor से चलने वाला Computer 1959 में बना था. इस Time एक यह भी अच्छा काम हुआ की Computer language का निर्माण हो गया. Assembly and symbol की Language को शब्दों में बदलने के लिए भी Computer experts द्वारा काफी प्रयास किए गए.

third generation (1965-1970)-

1965 में पहले Integrated circuit का निर्माण हुआ. जिसमे की एक ही Circuit में सैकड़ों Component लगाए गए. Computer में की IC का इस्तेमाल होने लगा और उसने Transistor का मशीनो में इस्तेमाल को रोक दिया.

फायदा यह हुआ की Computer काफी Powerful हो गए और Computer के Software काफी शक्तिशाली हो गए और एक ही Program अब एक से ज्यादा Computer में इस्तेमाल हो सकता था.

fourth generation (1971 से अब तक)-

इस समय तक हजारों Integrated circuits को एक ही छोटी सी silicon chip में जोड़ा जाने लगा. इसने फिर Computer की क्षमता बढ़ा दी और Computer का आकार और कीमत को कम कर दिया है. इस समय तक Computer का Microprocessor एक ही Chip पर बनने लग गया है. इस तरह की Computer Chip काफी शक्तिशाली हो गयी है.और सक्षम भी हुए है.

fifth generation (भविष्य के Computer)-

कंप्यूटर की जो Next Generation है. जिस पर अभी काम चल रहा है. और कुछ हद तक Success भी मिल चुकी है. वो है Artificial Intelligence पर आधारित Computer. इस प्रकार के Computer सभी काम खुद से करने में सक्षम होंगे. इस तरह के Computer को हम Robot, और अलग प्रकार के मशीनों में देख सकते हैं. जो अधिक काम करने में सक्षम है.

उम्मीद है आपको यह Post पसंद आई होगी और computer history in hindi में काफी कुछ जानने को मिला होगा. अगर यह Post आपको कुछ काम की लगी है. तो इसे Share करना ना भूलें. अगर आपके कोई सवाल है. तो Comment Box में जरूर बताएँ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.